एक कंपनी के CEO की मौत से फंसे 1300 करोड़

इंटरनेशनल डेस्क

कनाडा की एक क्रिप्टोकरेंसी कंपनी के 30 वर्षीय सीईओ की भारत में मौत हो गई है। सीईओ की मौत के साथ ही 190 मिलियन डॉलर (करीब 1300 करोड़) कीमत की करेंसी का पासवर्ड भी उसी के साथ चला गया है। ये पासवर्ड केवल सीईओ को ही याद था। टॉप सिक्योरिटी एक्सपर्ट भी पासवर्ड को अनलॉक करने में असमर्थ हैं, जिससे लोगों के करोड़ों रुपये डूब गए हैं। यहां तक कि मृतक की पत्नी को भी पासवर्ड याद नहीं है।

 

30 वर्षीय सीईओ गेराल्ड कोटेन की मौत बीते साल दिसंबर माह में आंत संबंधी बीमारी के चलते हुई। वह उस वक्त भारत के दौरे पर थे और यहां अनाथ बच्चों के लिए एक अनाथाल्य भी खोलने वाले थे। कंपनी के सोशल मीडिया पेज से इस बार की जानकारी दी गई है। गेराल्ड की कंपनी का नाम क्वाड्रिगासीएक्स है। गेराल्ड की मौत की खबर उस वक्त सामने आई जब उनकी पत्नी जेनिफर रोबर्टसन और कंपनी ने कोर्ट में क्रेडिट अपील दायर की। इसमें कहा गया है कि वह गेराल्ड के इनक्रिप्टिड अकाउंट को अनलॉक नहीं कर पा रहे हैं।

इसमें उनकी संपत्ति है। इसी में 190 मिलियन डॉलर की क्रिप्टोकरेंसी भी लॉक है। बताया जा रहा है कि वह जिस लैपटॉप से काम करते थे वह इन्क्रिप्टिड है, जिसका पासवर्ड उनकी पत्नी को भी नहीं पता। 31 जनवरी को वेबसाइट के माध्यम से क्वाड्रिगासीएक्स ने नोवा स्कोटिया सुप्रीम कोर्ट से अपील की है कि उन्हें उनकी आर्थिक समस्या को हल करने की अनुमति दी जाए। कंपनी ने कहा कि "बीते कई हफ्तों से हमने अपनी समस्या को हल करने के कई प्रयास किए हैं। हमने क्रिप्टोकरेंसी अकाउंट का पता लगाने और उसे सुरक्षित करने के भी कई प्रयास किए हैं। हमें अपने ग्राहकों को उनके डिपोजिट के हिसाब से पैसे देने हैं लेकिन हम ऐसा नहीं कर पा रहे हैं क्योंकि हम अकाउंट तक ही नहीं पहुंच पा रहे हैं।"

 

अब इस मामले को लोकर सोशल मीडिया पर कई तरह की बातें कही जा रही हैं। किसी का कहना है कि कहीं ये पूरा मामला ही तो धोखाधड़ी का नहीं है। अगर गेराल्ड को आंत संबंधी बीमारी थी तो वह भारत क्यों आए, जहां पीने के पानी की गंभीर समस्या है। वहीं एक यूजर ने लिखा है कि उसे किसी भारतीय दोस्त ने बताया है कि गेराल्ड की मौत भारत के राजस्थान राज्य में स्थित जयपुर शहर के आसपास कहीं हुई है।

You Might Also Like

प्रमुख खबरें

लाइव क्रिकेट स्कोर

सोशल प्लेटफार्म से जुडें

जुडें हमारे फेसबुक पेज से

जुडें हमारे ट्विटर पेज से

आपके विचार